12 14

Essay on mother teresa hindi

मदर टेरेसा
अग्नेसे गोंकशे बोजशियु
जन्म मृत्यु राष्ट्रीयता जातीयता व्यवसाय धार्मिक मान्यता पुरस्कार हस्ताक्षर
MotherTeresa 090.jpg
मदर टेरेसा
26 अगस्त 1910
उस्कुब, उस्मान साम्राज्य (आज का सोप्जे, मेसीडोनिया)
5 सितम्बर 1997(1997-09-05) (उम्र 87)
कोलकाता, भारत
उस्मान प्रजा (1910–1912)
सर्बियाई प्रजा (1912–1915)
बुल्गारियाई प्रजा (1915–1918)
युगोस्लावियाइ प्रजा (1918–1943)
यूगोस्लाव नागरिक (1943–1948)
भारतीय प्रजा (1948–1950)
भारतीय नागरिक[1] (1948–1997)
अल्बानियाई नागरिक [2] (1991–1997)
Albanians[*]
रोमन केथोलिक नन,
कैथोलिक गिरजाघर
रेमन मैगसेसे पुरस्कार, टेंपलटन पुरस्कार, Balzan Prize[*], नोबेल शांति पुरस्कार, Pacem in Terris Award[*], भारत रत्‍न, Damien-Dutton Award[*], Presidential Medal of Freedom[*], Congressional Gold Medal[*], Order of the Smile[*], जवाहर लाल नेहरू पुरस्कार, Honorary citizen of the United States[*], Q1864972[*], Order of Australia[*], Pacem in Terris Award[*], Congressional Gold Medal[*]
Mother-teresa-autograph.jpg

मदर टेरेसा (२६ अगस्त १९१० - ५ सितम्बर १९९७) जिन्हें रोमन कैथोलिक चर्च द्वारा कलकत्ता की संत टेरेसा के नाम से नवाज़ा गया है, का जन्म अग्नेसे गोंकशे बोजशियु के नाम से एक अल्बेनीयाई परिवार में उस्कुब, उस्मान साम्राज्य (वर्त्तमान सोप्जे, मेसेडोनिया गणराज्य) में हुआ था। मदर टेरसा रोमन कैथोलिक नन थीं, जिन्होंने १९४८ में स्वेच्छा से भारतीय नागरिकता ले ली थी। इन्होंने १९५० में कोलकाता में मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी की स्थापना की। ४५ सालों तक गरीब, बीमार, अनाथ और मरते हुए लोगों की इन्होंने मदद की और साथ ही मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी के प्रसार का भी मार्ग प्रशस्त किया।

१९७० तक वे गरीबों और असहायों के लिए अपने मानवीय कार्यों के लिए प्रसिद्द हो गयीं, माल्कोम मुगेरिज के कई वृत्तचित्र और पुस्तक जैसे समथिंग ब्यूटीफुल फॉर गॉड में इसका उल्लेख किया गया। इन्हें १९७९ में नोबेल शांति पुरस्कार और १९८० में भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न प्रदान किया गया। मदर टेरेसा के जीवनकाल में मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी का कार्य लगातार विस्तृत होता रहा और उनकी मृत्यु के समय तक यह १२३ देशों में ६१० मिशन नियंत्रित कर रही थीं। इसमें एचआईवी/एड्स, कुष्ठ और तपेदिक के रोगियों के लिए धर्मशालाएं/ घर शामिल थे और साथ ही सूप, रसोई, बच्चों और परिवार के लिए परामर्श कार्यक्रम, अनाथालय और विद्यालय भी थे। मदर टेरसा की मृत्यु के बाद इन्हें पोप जॉन पॉल द्वितीय ने धन्य घोषित किया और इन्हें कोलकाता की धन्य की उपाधि प्रदान की।

दिल के दौरे के कारण 5 सितंबर 1997 के दिन मदर टैरेसा की मृत्यु हुई थी।[3]

अनुक्रम

प्रारंभिक जीवन

मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त, 1910 को स्कॉप्जे (अब मेसीडोनिया में) में हुआ था। इनके पिता निकोला बोयाजू एक साधारण व्यवसायी थे। मदर टेरेसा का वास्तविक नाम ‘अगनेस गोंझा बोयाजिजू’ था। अलबेनियन भाषा में गोंझा का अर्थ फूल की कली होता है। जब वह मात्र आठ साल की थीं तभी इनके पिता का निधन हो गया, जिसके बाद इनके लालन-पालन की सारी जिम्मेदारी इनकी माता द्राना बोयाजू के ऊपर आ गयी। यह पांच भाई-बहनों में सबसे छोटी थीं। इनके जन्म के समय इनकी बड़ी बहन की उम्र 7 साल और भाई की उम्र 2 साल थी, बाकी दो बच्चे बचपन में ही गुजर गए थे। यह एक सुन्दर, अध्ययनशील एवं परिश्रमी लड़की थीं। पढ़ाई के साथ-साथ, गाना इन्हें बेहद पसंद था। यह और इनकी बहन पास के गिरजाघर में मुख्य गायिकाएँ थीं। ऐसा माना जाता है की जब यह मात्र बारह साल की थीं तभी इन्हें ये अनुभव हो गया था कि वो अपना सारा जीवन मानव सेवा में लगायेंगी और 18 साल की उम्र में इन्होंने ‘सिस्टर्स ऑफ़ लोरेटो’ में शामिल होने का फैसला ले लिया। तत्पश्चात यह आयरलैंड गयीं जहाँ इन्होंने अंग्रेजी भाषा सीखी। अंग्रेजी सीखना इसलिए जरुरी था क्योंकि ‘लोरेटो’ की सिस्टर्स इसी माध्यम में बच्चों को भारत में पढ़ाती थीं।

आजीवन सेवा का संकल्प

१९८१ ई में आवेश ने अपना नाम बदलकर टेरेसा रख लिया और उन्होने आजीवन सेवा का संकल्प अपना लिया। इन्होने स्वयं लिखा है - वह १० सितम्बर १९४० का दिन था जब मैं अपने वार्षिक अवकाश पर दार्जिलिंग जा रही थी। उसी समय मेरी अन्तरात्मा से आवाज़ उठी थी कि मुझे सब कुछ त्याग कर देना चाहिए और अपना जीवन ईश्वर एवं दरिद्र नारायण की सेवा कर के कंगाल तन को समर्पित कर देना चाहिए।"

समभाव से पीड़ित की सेवा

मदर टेरेसा दलितों एवं पीडितों की सेवा में किसी प्रकार की पक्षपाती नहीं है। उन्होनें सद्भाव बढाने के लिए संसार का दौरा किया है। उनकी मान्यता है कि 'प्यार की भूख रोटी की भूख से कहीं बडी है।' उनके मिशन से प्रेरणा लेकर संसार के विभिन्न भागों से स्वय्ं-सेवक भारत आये तन, मन, धन से गरीबों की सेवा में लग गये। मदर टेरेसा क कहना है कि सेवा का कार्य एक कठिन कार्य है और इसके लिए पूर्ण समर्थन की आवश्यकता है। वही लोग इस कार्य को संपन्न कर सकते हैं जो प्यार एवं सांत्वना की वर्षा करें - भूखों को खिलायें, बेघर वालों को शरण दें, दम तोडने वाले बेबसों को प्यार से सहलायें, अपाहिजों को हर समय ह्रदय से लगाने के लिए तैयार रहें।

पुरस्कार व सम्मान

मदर टेरेसा को उनकी सेवाओं के लिये विविध पुरस्कारों एवं सम्मानों से विभूषित किय गया है। १९३१ में उन्हें पोपजान तेइसवें का शांति पुरस्कार और धर्म की प्रगति के टेम्पेलटन फाउण्डेशन पुरस्कार प्रदान किय गया। विश्व भारती विध्यालय ने उन्हें देशिकोत्तम पदवी दी जो कि उसकी ओर से दी जाने वाली सर्वोच्च पदवी है। अमेरिका के कैथोलिक विश्वविद्यालय ने उन्हे डोक्टोरेट की उपाधि से विभूषित किया। भारत सरकार द्वारा १९६२ में उन्हें 'पद्म श्री' की उपाधि मिली। १९८८ में ब्रिटेन द्वारा 'आईर ओफ द ब्रिटिश इम्पायर' की उपाधि प्रदान की गयी। बनारस हिंदू विश्वविद्यालय ने उन्हें डी-लिट की उपाधि से विभूषित किया। १९ दिसम्बर १९७९ को मदर टेरेसा को मानव-कल्याण कार्यों के हेतु नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया। वह तीसरी भारतीय नागरिक है जो संसार में इस पुरस्कार से सम्मानित की गयी थीं। मदर टेरेसा के हेतु नोबल पुरस्कार की घोषणा ने जहां विश्व की पीडित जनता में प्रसन्नत का संछार हुआ है, वही प्रत्येक भारतीय नागरिकों ने अपने को गौर्वान्वित अनुभव किया। स्थान स्थान पर उन्का भव्या स्वागत किया गया। नार्वेनियन नोबल पुरस्कार के अध्यक्श प्रोफेसर जान सेनेस ने कलकत्ता में मदर टेरेसा को सम्मनित करते हुए सेवा के क्शेत्र में मदर टेरेसा से प्रेरणा लेने का आग्रह सभी नागरिकों से किया। देश की प्रधान्मंत्री तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने मदर टेरेसा का भव्य स्वागत किया। अपने स्वागत में दिये भाषणों में मदर टेरेसा ने स्पष्ट कहा है कि "शब्दों से मानव-जाति की सेवा नहीं होती, उसके लिए पूरी लगन से कार्य में जुट जाने की आवश्यकता है।"

संत की उपाधि

09 सितम्बर 2016 को वेटिकन सिटी में पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा को संत की उपाधि से विभूषित किया। [4]

आलोचना

कई व्यक्तियों, सरकारों और संस्थाओं के द्वारा उनकी प्रशंसा की जाती रही है, यद्यपि उन्होंने आलोचना का भी सामना किया है। इसमें कई व्यक्तियों, जैसे क्रिस्टोफ़र हिचेन्स, माइकल परेंटी, अरूप चटर्जी (विश्व हिन्दू परिषद) द्वारा की गई आलोचना शामिल हैं, जो उनके काम (धर्मान्तरण) के विशेष तरीके के विरुद्ध थे। इसके अलावा कई चिकित्सा पत्रिकाओं में भी उनकी धर्मशालाओं में दी जाने वाली चिकित्सा सुरक्षा के मानकों की आलोचना की गई और अपारदर्शी प्रकृति के बारे में सवाल उठाए गए, जिसमें दान का धन खर्च किया जाता था।

बाहरी कड़ियाँ

सन्दर्भ

words  Mother Meritnation.com 200 Teresa hindi in essay |  on

essay on mother teresa hindi Essays on a Short Essay Of Mother Teresa In Hindi

" - Ldpende

Search Results

  1. Mother Teresa nuns wanted to call Mother Teresa the Reverend Mother Teresa, but she refused because she never felt above anyone else. In 1954 Mother Teresa was given an unused...
  2. Mother Teresa to care for our neighbours. We can write a custom essay on Mother Teresa for you! Secondly, Mother Teresa did do a lot of work which affected the world...
  3. Mother Teresa Teresa as my role model in life. References Essay on Mother Teresa (blog), Mac 4, 2009, http://www.
.. 53 67 79 91 105 123 143 147 Photo essay follows page 66. Chapter 10 The Most Obedient...
  • Mother Teresa sprawling empire or the highest of education. Mother Teresa is thus an exemplary model of service to humanity. Mother Teresa is one person in the 20th century, who...
  • Mother Teresa-Oslo Speech for three days. I will give my sugar to Mother Teresa for her children." After these three days his father and mother brought him to our house. I had never met...
  • Mother Teresa Mother Teresa Mother Teresa was born on 26th Aug 1910 in Yugoslavia and her name was Agnes Bojaxhiu.
  • Vehicles are also beach style and CJ will be dressed in shorts and sandals. | |[pic] |Weather & Time...
  • Lewis Carroll - Short Essay weak chest in later life. From a young age, Lewis Carroll wrote poetry and short stories this work was sent to various magazines. Between 1854 and 1856, his poetry...
  • Mother Teresa Mother Teresa lived an extraordinary life. Agnes Gonxha Bojaxhiu, later named Mother Teresa, ... to go home. She died shortly after her 87th birthday on September...
  • Short Essay Of The Start Of The World Wide Web The History of the World Wide Web The original ideas for the World Wide Web came from the government.
  • - Short Essay Is there too much social expectation for growing kids? With more accessible information brought about by the Internet, the current generation is more cognizant...
  • Short Essay On Vectors Vectors: Theories and Principles Here we will examine some of the elementary ideas concerning vectors. The reason for this introduction to vectors is that many...
  • Television - Short Essay 1 s television good or not? Lets look at it! It is believed that television is one of the successful invention in this era. At first, television is used to.
  • Comments

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>